बापू कथा: कृपया समय दें

कल, 13 अगस्त 2008 को, बापू कथा का समापन व्याख्यान सुनने के बाद से ही मैं अस्वस्थ हो गया । पीठ बहुत दर्द कर रही है । मैं बैठ नहीं पा रहा हूं । इसके बावजूद मैं समापन व्याख्यान टाइप कर रहा हूं । यह पोस्ट चार दिनों की सामान्य पोस्ट से कहीं ज्यादा बड़ी है । मुझे भी चैन नहीं पड़ रहा है - लग रहा है मैं कर्जदार हूं, चुकाने की पूंजी भी पास में है और चुका नहीं पा रहा हूं ।

कृपया मुझे तनिक समय देने का उपकार कीजिएगा । मै जल्दी से जल्दी यह पोस्ट प्रस्तुत कर देना चाहता हूं । तबीयत जैसे ही तनिक सी भी ठीक होगी, मैं अपना कर्जा चुका दूंगा ।

इस बीच सूचना यह है कि कल, व्याख्यान स्थल पर व्याख्यान का सीडी/डीवीडी सेट उपलब्ध नहीं कराया जा सका । आश्वस्त किया गया है कि 18 अगस्त को जारी कर दिया जाएगा । मैं व्यवस्थाएं कर आया हूं कि (यदि सेट उसी दिन जारी कर दिया गया तो) कम से कम एक सेट मुझे उसी दिन, रतलाम में मिल जाए ।यदि ऐसा हो पाया तो मैं 18 अगस्त को ही श्रीयुत रवि रतलामी को वह सेट सौंप दूंगा ताकि वे आप तक यह सामग्री पहुंचा सकें ।

ईश्वर से प्रार्थना कीजिए कि सीडी/डीवीडी सेट 18 को ही उपलब्ध करा दिया जाए ।

7 comments:

  1. बैरागी जी, आप विश्राम कर स्वयं को स्वस्थ करें, हम प्रतीक्षा करेंगे। लगता है आप को थकान हो गई है।

    ReplyDelete
  2. prarthana hai,aapka kasht door ho.bhujangasan se shayad aaram mile.thheek ho kar likhiyega.

    ReplyDelete
  3. बैरागीजी,
    मैं आपके शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना करता हूँ ।

    ReplyDelete
  4. बैरागी जी
    आपको स्वास्थ्य लाभ की कामना के साथ स्वतँत्रता दिवस की बधाई
    " वँदे मातरम्` ! "
    Get well soon & take your time in posting -
    - लावण्या

    ReplyDelete
  5. जल्दी से स्वस्थ होईये बैरागी जी.
    आपकी पोस्ट की हमें प्रतीक्षा है.

    ReplyDelete
  6. आपके स्वास्थ्य की ईश्वर से प्रार्थना बैरागी जी।

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी मुझे सुधारेगी और समृद्ध करेगी. अग्रिम धन्यवाद एवं आभार.