मर गई, फिर भी सौभाग्‍य कांक्षिणी !

मैं हिन्‍दी के प्रति भावुक जरूर हूं किन्‍तु शुध्‍दता का आग्रही नहीं हूं क्‍यों कि जानता हूं कि शुध्‍द सोने के गहने नहीं बनते । फिर, भाषा तो 'बहती नदी' है । जितने घाटों को छुएगी, उतनी ही सम्‍पदा साथ लेती जाएगी । लेकिन इसका मतलब यह भी नहीं होना चाहिए कि वह नदी ही न रहे । लिहाजा, न्‍यूनतम सावधानी तो बरतनी ही चाहिए ।

दो उदाहरण प्रस्‍तुत हैं । निष्‍कर्ष खुद निकालिएगा ।

रतलाम निवासी, जैन मतावलम्‍बी एक महिला ने 31 दिनों के उपवास किए । जैन सम्‍प्रदाय में इसे 'तपस्‍या' कहा जाता है और इसका धार्मिक महत्‍व बहुत ज्‍यादा है । जिस परिवार का कोई सदस्‍य यह 'तपस्‍या' कर लेता है, उस परिवार के लिए यह सौभाग्‍य, गर्व और उत्‍सव का कारण बन जाता है । इस महिला की इस उपलब्धि को सार्वजनकि करने के लिए जो प्रेस नोट प्रसारित किया गया उसमें इसे 'सौभाग्‍य कांक्षिणी' के रूप में उल्‍लेखित किया गया जब कि यह महिला न केवल विवाहित है बल्कि बच्‍चों की मां भी है । मजे की बात यह रही कि अधिकांश अखबारों ने इस प्रेस नोट को ज्‍यों का त्‍यों छापा । इस स्थिति को क्‍या कहा जाए ? यह माना जाए कि यह बाल बच्‍चेदार सुहागन एक और विवाह करना चाहती है ?

लेकिन यह तो कुछ भी नहीं है । सबसे तेज गति से बढने का दावा करने वाले, बहु संस्‍करणीय, हिन्‍दी के एक अग्रणी अखबार ने तो कमाल ही कर दिया । एक महिला के अवसान पर, उसके उठावने के विज्ञापन (दिनांक 21 सितम्‍बर 2007) में इस अखबार ने उस महिला के नाम से पहले 'सौभाग्‍य कांक्षिणी' विशेषण प्रयुक्‍त किया है ।

मुमकिन है कि प्रेस नोट तैयार करने वाले और विज्ञापन बनाने वाले का भाषा ज्ञान शून्‍यवत रहा हो लेकिन उन्‍हें छापने वाले अखबारों का भाषा ज्ञान तो भरपूर रहा होगा ? वे तो भाषा की ही रोटी खाते हैं ? फिर, अखबारों को तो यह ध्‍यान भी रखना चाहिए कि लोग उनकी भाषा की नकल करते हैं । उनकी जिम्‍मेदारी तो और अधिक होती है ।

लिहाजा, शुध्‍दता का आग्रह न करते हुए भी, 'अर्थ का अनर्थ न करने का आग्रह' तो किया ही जा सकता है ।

यह आग्रह अनुचित है ?

5 comments:

  1. वे तो सौभाग्यकांक्षिणी हैं - पर उनके बारे में जानने का सौभाग्य तो आपने हमें दिया है. धन्यवाद.

    है मजेदार भाषा का बिना विचारे यह प्रयोग! :)

    ReplyDelete
  2. अगर आप इस लेख के साथ स्कैन किया चित्र भी डालते तो सोने में सुहागा होता.

    चित्र डालने की कला सीख लेनी चाहिए, जल्दी! :)

    ReplyDelete
  3. आपका ब्लोग बहुत अच्छा लगा.
    ऎसेही लिखेते रहिये.
    क्यों न आप अपना ब्लोग ब्लोगअड्डा में शामिल कर के अपने विचार ऒंर लोगों तक पहुंचाते.
    जो हमे अच्छा लगे.
    वो सबको पता चले.
    ऎसा छोटासा प्रयास है.
    हमारे इस प्रयास में.
    आप भी शामिल हो जाइयॆ.
    एक बार ब्लोग अड्डा में आके देखिये.

    ReplyDelete
  4. इधर टाइप कीजिए

    प्रिय भाई बब्बू !
    ये करिश्मा तो अख़बार वालों ने किया है पर आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि म.प्र.शा स न मे एक जन संपर्क अधिकारी
    और एक चर्चित कहानीकारा के परिवार में उनके भाई के द्वितीय चिर ंजीव की वैवाहिक-पत्रिका मे अत्यंत आ ग्रह से आमंत्रित करते हुए वर की
    माता ( जिन्हे दादी बने एक अर सा हो गया था ) के नाम के साथ भी सौभाग्यका ंक्षणी छ पा था . आँखें फटी रह गई पढ़ते-पढ़ते...........................

    --भै र व फ़ र क्या
    सेन रेमो न,कॅलिफॉर्निया,यू.एस.ए.;

    ReplyDelete
  5. सौभाग्याकांक्षिणी

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी मुझे सुधारेगी और समृद्ध करेगी. अग्रिम धन्यवाद एवं आभार.