मन की बात

एक, दो, तीन, चार, पाँच, छह, सात,
करते हैं हम मन की बात।

कान लगा कर सुनो-सुनो,
मन में अपने गुनो-गुनो।
नाचे बादल, गाते मोर,
हरियाली है चारों ओर।

इसका मतलब, गाओ जी,
नाचो और नचाओ जी।
नाचें-गावें, हम सब साथ,
हरियाली हो, दिन और रात।

एक, दो, तीन, चार, पाँच, छह, सात,
करते हैं हम मन की बात।
-----


1 comment:

  1. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी मुझे सुधारेगी और समृद्ध करेगी. अग्रिम धन्यवाद एवं आभार.