'वर्षा' आ गई फागुन में : इसे सहेज लीजिए

‘जीवन वर्षा’
भारतीय जीवन बीमा निगम की नई योजना (पालिसी)

कल, 16 फरवरी को, भारतीय जीवन बीमा निगम (एल. आई. सी.) एक बार फिर अपने स्थापित, जग-जाहिर और पारम्परिक आत्म विश्वास का परिचय देते हुए अपनी नई पालिसी ‘जीवन वर्षा’ बाजार में प्रस्तुत कर रहा है। मन्दी की उथल-पुथल से त्रस्त इस ‘भीषण विकट आर्थिक समय’ में एल. आई. सी. एक बार फिर सुनिश्चित लाभ (ग्यारण्टीड एडीशन) देने वाली पालिसी प्रस्तुत कर, देश के असंख्य मझोले निवेशकों को ‘बीमा सुरक्षा और सुनिश्चित लाभ’ एक साथ उपलब्ध कराने का ‘अविश्वसनीय कारनामा’ ही कर रही है।

‘जीवन वर्षा’ (तालिका 196) की महत्वपूर्ण बातें इस प्रकार हैं -

- यह एल. आई. सी. की ऐसी पहली ‘धन वापसी योजना’ (मनी बेक पालिसी) है जिसमें तीन-तीन वर्षों के अन्तराल पर धन वापसी का प्रावधान है। अन्यथा, एल. आई. सी. की अब तक उपलब्ध ‘धन वापसी योजनाओं’ (मनी बेक पालिसियों) में चार-चार अथवा पाँच-पाँच वर्षों के बाद ‘धन वापसी’ का प्रावधान है।

- यह योजना सीमित अवधि, 31 मार्च 2009 तक के लिए ही उपलब्ध है।
- यह योजना, 15 वर्ष (पूर्ण) से 66 वर्ष की आयु समूह के लोगों के लिए है।
- परिपक्वता आयु अधिकतम 75 वर्ष।
- योजना दो अवधियों (9 वर्ष तथा 12 वर्ष)के लिए उपलब्ध है।

- प्रीमीयम भुगतान अवधि - 9 वर्ष। यह अवधि दोनों पालिसी अवधियों के लिए समान है। अर्थात् 12 वर्ष की पालिसी अवधि का विकल्प लेने पर भी किश्त भुगतान 9 वर्ष तक ही करना है। 9 वर्ष पालिसी अवधि विकल्प में तो किश्त भुगतान अवधि 9 वर्ष है ही।

सुनिश्चित लाभ (ग्यारण्टीड एडीशन)

(अ) 9 वर्ष पालिसी अवधि वाली योजना के लिए 65 रुपये प्रति वर्ष प्रति हजार। तथा

(ब) 12 वर्ष पालिसी अवधि वाली योजना के लिए 70 रुपये प्रति वर्ष प्रति हजार।

- इसके अतिरिक्त, परिपक्वता भुगतान के साथ ‘निष्ठा आधिक्य’ (लायल्टी एडीशन) भुगतान

का भी प्रावधान।



योजना के लाभ -
(1) 9 वर्ष पालिसी अवधि वाली योजना में, पालिसी के -

- 3 वर्ष पूरे होने पर बीमा धन की 15 प्रतिशत राशि का भुगतान।

- 6 वर्ष पूरे होने पर बीमा धन की 25 प्रतिशत राशि का भुगतान।

- 9 वर्ष पूरे होने पर (अर्थात् परिपक्वता के समय) बीमाधन की शेष 60 प्रतिशत राशि के साथ सुनिश्चित लाभ की राशि तथा निष्ठा आधिक्य की राशि का भुगतान।

(2) 12 वर्ष पालिसी अवधि वाली योजना में, पालिसी के -

- 3 वर्ष पूरे होने पर बीमा धन की 10 प्रतिशत राशि का भुगतान।

- 6 वर्ष पूरे होने पर बीमा धन की 20 प्रतिशत राशि का भुगतान।

- 9 वर्ष पूरे होने पर बीमा धन की 30 प्रतिशत राशि का भुगतान।

- 12 वर्ष पूरे होने पर (अर्थात् परिपक्वता के समय) बीमा धन की शेष 40 प्रतिशत राशि के साथ, सुनिश्चित लाभ की राशि तथा निष्ठा आधिक्य की राशि का भुगतान।



बीमा सुरक्षा

-पालिसी प्रारम्भ दिनांक से, पालिसी के अन्तिम वर्ष से पहले वाले वर्ष तक की अवधि में मृत्य होने पर - बीमा धन की रकम तथा मृत्यु के समय तक की पालिसी अवधि के सुनिश्चित लाभ की रकम का भुगतान।

- पालिसी के अन्तिम वर्ष में (परिपक्वता दिनांक से पहले) मृत्यु होने की दशा में बीमा धन की रकम तथा सुनिश्चित लाभ की रकम तथा निष्ठा आधिक्य की रकम का भुगतान।

विशेष - मृत्यु दावे की रकम में से, 3-3 वर्षों के अन्तराल में किए गए भुगतान की रकम कम नहीं की जाएगी। यह प्रावधान, एल. आई. सी. की पहले से चली आ रही मनी बेक पाॅलिसियों में भी उपलब्ध है।

न्यूनतम बीमा धन - रुपये 50,000/-उसके बाद रुपये 5,000/- के गुणक में।
अधिकतम बीमा धन - कोई सीमा नहीं। (किन्तु प्रस्तावक की आयु और सकल आय के आधार पर निर्धारित अनुपात के अनुसार।)

प्रीमीयम निर्धारण में उपलब्ध रियायतें

भुगतान विधि छूट -

-वार्षिक भुगतान विधि पर मूल प्रीमीयम दर पर 2 प्रतिशत की और अध्र्द वार्षिक भुगतान विधि पर मूल प्रीमीयम दर पर 1 प्रतिशत की छूट।

बीमा धन छूट -

95,000/- तक - कोई छूट नहीं।

1 लाख से 1,95,000/- तक - मूल प्रीमीयम दर पर 2 रुपये प्रति हजार।

2 लाख से 4,95,000/- तक - मूल प्रीमीयम दर पर 3.50 रुपये प्रति हजार।

5 लाख तथा अधिक पर - 5 रुपये प्रति हजार।

(बीमा एजेण्ट जब आपको उदाहरण देते हुए प्रीमीयम बताता है तो उसमें समस्त रियायतें देने के बाद ही रकम बताता है।)

किश्त भुगतान विधि - वार्षिक, अध्र्द वार्षिक और तिमाही।

आय कर प्रावधान -
- चुकाई गई प्रीमीयम की रकम पर, आय कर अधिनियम की धारा 80 (सी) के अन्तर्गत कर छूट मिलेगी।
- पालिसी से मिलने वाली समस्त रकम, आय कर की धारा 10 (10) (डी) के अन्तर्गत आय कर से पूर्णतः मुक्त रहेगी।

प्राप्तियों का ‘लाभ-प्रतिशत’
- 30 वर्ष की आयु वाले व्यक्ति के जीवन पर ली गई, 9 वर्ष अवधि वाली, रुपये 5 लाख बीमा धन की पालिसी पर, आय कर छूट न लेने की दशा में लगभग 9 प्रतिशत की दर से तथा आय कर छूट लेने की दशा में लगभग 17 प्रतिशत की दर से लाभ प्राप्ति अनुमानित है।



- उपरोक्तानुसार ही, 12 वर्ष अवधि का विकल्प लेने पर यह लाभ प्रतिशत, आय कर छूट न लेने की दशा में लगभग 10 प्रतिशत तथा आय कर छूट लेने की दशा में 23 प्रतिशत अनुमानित है।

- यदि मिलने वाली रकम पर आय कर की छूट को भी शरीक कर लिया जाए तो यह लाभ-प्रतिशत और अधिक हो जाता है।

मेरी सलाह -
यह पालिसी उन समस्त लोगों के लिए ‘बिल्ली के भाग से टूटा छींका’ है जो 55 वर्ष से अधिक आयु के हो चुके हैं। 62 पार कर चुके लोगों के लिए तो यह ‘मनी बेक सुविधा सहित, छप्पर फाड़ बीमा सुरक्षा वर्षा’ है।

एल.आई.सी. की वर्तमान मनी बेक पालिसियों में, परिपक्वता की अधिकतम आयु 70 वर्ष निर्धारित की हुई है। अर्थात् 46 वर्ष का व्यक्ति 25 वर्षीय मनी बेक पालिसी, 51 वर्ष आयु का व्यक्ति 20 वर्षीय मनी बेक पालिसी और 56 वर्षीय व्यक्ति 15 वर्षीय मनी बेक पालिसी नहीं ले सकता। 12 वर्ष अवधि वाली कोई मनी बेक पालिसी एल.आई.सी. के पास उपलब्ध है ही नहीं।
किन्तु ‘जीवन वर्षा’ पालिसी में परिपक्वता आयु 75 वर्ष तक कर दी गई है। अर्थात् यह पॅलिसी 66 वर्ष तक की आयु वाले लोगों के लिए उपलब्ध है। वे 9 वर्ष अवधि वाली ‘जीवन वर्षा’ ले सकते हैं और 63 वर्ष की आयु वाले तो 12 वर्ष अवधि वाली ‘जीवन वर्षा’ ले सकते हैं।

जाहिर है कि ‘उच्च जोखिम क्षेत्र’ (हाई रिस्क झोन) में जी रहे जो वरिष्ठजन बीमा सुरक्षा लेने को उत्सुक हैं, उनके लिए तो यह ‘लपक लेने वाला प्रतीक्षित सुनहरा मौका’ ही है।

ऐसे लोगों को तो यह पालिसी, अपनी भुगतान क्षमता के अनुरूप, ‘बिना विचारे’ ही ले लेना चाहिए

- आर्थिक परिदृश्य पर छाया मन्दी का प्रभाव जल्दी दूर होता अनुभव नहीं हो रहा है। सरकार बार-बार भरोसा दिला रही है और अर्थ विशेषज्ञ चेतावनियाँ दे रहे हैं। बैंकों की ब्याज दरें कम होने की आशंका चारों ओर पसरी हुई है। ऐसे में ‘ग्यारण्टीड रिटर्न’ अपने आप में सबसे बड़ा आकर्षण है। कहा जा सकता है कि ‘जीवन वर्षा’ पालिसी लेकर, मन्दी के खतरे से बेफिक्र होकर, टाँगे पसार कर सोया जा सकता है।

- ‘जीवन आस्था’ के समय जो दो बातें मैं ने कही थीं, वे दानों ही दुहरा रहा हूँ। - यह योजना भले ही 31 मार्च तक उपलब्ध है किन्तु अन्तिम तारीख की प्रतीक्षा न करें। यदि यह योजना अनुकूल अनुभव होती है तो तत्काल ही खरीद लें।

- यथा सम्भव, 12 वर्ष अवधि की योजाना लें।

सदैव की तरह कृपया याद रखें - यह विवरण मुझे मिली अब तक की तानकारियों के आधार पर हैं। इन्‍हें भारतीय जीवन बीमा निगम की अधिकृत जानकारियां न समझें।

जीवन बीमा से जुड़ी कुछ छोटी-छोटी जानकारियाँ, गुरुवार को।

-----

इस ब्लाग पर, प्रत्येक गुरुवार को, जीवन बीमा से सम्बन्धित जानकारियाँ उपलब्ध कराई जा रही हैं। (इस स्थिति के अपवाद सम्भव हैं।) आपकी बीमा जिज्ञासाओं/समस्याओं का समाधान उपलब्ध कराने का यथा सम्भव प्रयास करूँगा। अपनी जिज्ञासा/समस्या को सार्वजनिक न करना चाहें तो मुझे bairagivishnu@gmail.com पर मेल कर दें। आप चाहेंगे तो आपकी पहचान पूर्णतः गुप्त रखी जाएगी। यदि पालिसी नम्बर देंगे तो अधिकाधिक सुनिश्चित समाधान प्रस्तुत करने में सहायता मिलेगी। यह सुविधा पूर्णतः निःशुल्क है।

यदि कोई कृपालु इस सामग्री का उपयोग करें तो कृपया इस ब्लाग का सन्दर्भ अवश्य दें । यदि कोई इसे मुद्रित स्वरूप प्रदान करें तो कृपया सम्बन्धित प्रकाशन की एक प्रति मुझे अवश्य भेजें । मेरा पता है - विष्णु बैरागी, पोस्ट बाक्स नम्बर - 19, रतलाम (मध्य प्रदेश) 457001.

कृपया मेरे ब्लाग ‘मित्र-धन’ http://mitradhan.blogspot.com पर भी एक नजर डालें ।

6 comments:

  1. बहुत अच्छी जानकारी !

    ReplyDelete
  2. शानदार बीमा पालिसी है। कोशिश करेंगे लाभ उठाने की।

    ReplyDelete
  3. भाईसाहेब,बहुत अच्छी और
    लाभकारी जानकारी देते है आप हमेशा .शुक्रिया.

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छी और लाभकारी जानकारी है.शुक्रिया.

    ReplyDelete
  5. बहुत ही उपयोगी जानकारी........आभार

    ReplyDelete
  6. इस जानकारी के लिये शुक्रिया! आप विषय को बहुत अच्छा समझाते हैं. अब नजर रखेंगे जिससे कि अच्छी स्कींमों को सही तरीके से समझा जा सके.

    सस्नेह -- शास्त्री

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी मुझे सुधारेगी और समृद्ध करेगी. अग्रिम धन्यवाद एवं आभार.