यह अभिलेखीकरण: अपने नायकों के साथ इतिहास में दर्ज होने का अवसर

नौ अगस्त को संसद में, ‘भारत छोड़ो आन्दोलन’ के 75 वर्ष पूरे होने के प्रसंग पर बोलते हुए तमाम पार्टियों के नेताओं ने, स्वतन्त्रता संग्राम में अपने-अपने नेताओं के योगदान का उल्लेख किया। दूसरी पार्टियों के नेताओं को या तो भूल गए या जानबूझकर उनकी अनदेखी कर दी। भाजपा के पास अपना कोई स्वतन्त्रता संग्राम सेनानी नहीं है। सो प्रधान मन्त्री ने उन नेताओं के नाम छोड़ दिए जिनसे उनका पितृ संगठन राष्ट्रीय स्वयम् सेवक संघ नफरत करता है। लगभग तमाम राजनीतिक दलों और तटस्थ प्रेक्षकों ने मोदी के इस व्यवहार को अशालीन निरूपित किया।


यह सब सुनते हुए, भाई साडॉक्टर बंसीधरजी बार-बार याद आने लगे। उनका गाँव भाटखेड़ी का पड़ौसी कस्बा मनासा मेरी जन्मस्थली है। वे बड़ौदा में बस गए हैं। उनकी शिक्षा-दीक्षा मनासा, इन्दौर में हुई। स्वर्गीय डॉक्टर शिव मंगल सिंहजी सुमन के निर्देशन में ‘मालवी की उत्पत्ति और विकास’ विषय पर 1968 में पी. एचडी. करने के बाद 1969 में बड़ौदा के महाराजा सयाजीराव गायकवाड़ विश्व विद्यालय में सहायक व्याख्याता के रूप में पदस्थ हुए और पदोन्नत होते-होते 1996 में रीडर बने। नौकरी के दौरान गुजराती के लब्ध प्रतिष्ठित साहित्यकारों की अनेक कृतियों के गुजराती अनुवाद किए। सयाजी राव गायकवाड़ (तृतीय) के जीवन ने उनका ध्यानाकर्षण किया। फलस्वरूप 1992 में ‘भारतीय क्रान्तिकारी आन्दोलन में सयाजीराव का योगदान’ शीर्षक से उनकी पुस्तक सामने आई। इसका मराठी अनुवाद छपने की तैयारी में है। सन् 2000 में, सयाजी राव के 20 अंग्रेजी भाषणों का अनुवाद ‘दीर्घ दृष्टा सयाजीराव’ छपा। 2004 में ‘लोक स्मृति में सयाजीराव’ शीर्षक से संस्मरण संकलन पहले हिन्दी में और बाद में गुजराती में आया। सयाजी राव के 250 भाषणों का अनुवाद तीन खण्डों में प्रकाशित करने की योजना के तहत पहला खण्ड प्रकाशन की देहलीज पर है। सयाजी राव के प्रति इस रुझान के चलते 2007 में विश्व विद्यायलय में सयाजी फाउण्डेशन के समन्वयक बनाए गए। 

अपने ईलाज के लिए मैं मई 2016 में बड़ौदा में भर्ती रहा। बंसीधरजी लगातार पूछ-परख के लिए अस्पताल आते रहे। मेरे बहाने वे अपनेे अतीत में टहलते रहे और मैं उनके साथ चलता रहा - मौन। एक दिन उन्होंने ‘ओजस्वी आजाद’ शीर्षक पुस्तक दी। मूल लेखक बीरेन कोठारी हैं। बंसीधरजी ने उसका हिन्दी अनुवाद किया है। संसद में हमारे नेताओं द्वारा की जा रही, एक दूसरे की शिकायत ने मुझे इस पुस्तक की याद दिला दी।

बड़ौदा के मनहर भाई शाह ने बीरेन कोठारी की कलम से अपने स्वर्गीय काका, स्वतन्त्रता संग्राम सेनानी रसिक भाई आजाद के व्यक्तित्व और स्वतन्त्रता संग्राम में उनकी भूमिका का अभिलेखीकरण (डाक्यूमेण्टेशन) करवाया है। ऐसा करने का कोई विचार मनहर भाई के मन में नहीं था। किन्तु हुआ यह कि उनके एक मित्र ने उन्हें एक किताब भेजी। ‘पडकार सामे पुरुषार्थ’ (चुनौती को पार कर पाने का पुरुषार्थ) शीर्षक यह पुस्तक, अहमदाबाद के आदर्श प्रकाशन से जुड़े नवनीत भाई मद्रासी नामक सज्जन पर केन्द्रित थी। वे स्वतन्त्रता संग्राम सेनानी थे। बीरेन कोठारी इसके लेखक थे। मनहर भाई न तो लेखक को जानते थे न ही पुस्तक के नायक को। पुस्तक पढ़ते-पढ़ते ही मनहर भाई को अपने काका रसिक भाई याद आ गए। उन्होंने कई बार उनसे कहा था - ‘काका! आपके जीवन सम्बन्धी कुछ बातें बोलिए। मैं बैठकर उन्हें कागज पर उतारता जाऊँगा।’ लेकिन रसिक भाई को अपने बारे में बताना अच्छा नहीं लगता था। सो, वे हर बार कोई न कई बात बनाकर टाल देते थे। उनकी मृत्योपरान्त मिले उनके और उनके मित्रों के पुराने पत्रों से उनके काम और उनके व्यापक जीवन की हलकी सी झलक अनुभव हो पाई। मनहर भाई को लगा कि काका के संस्कारों की पूँजी से प्रगति करनेवाली पीढ़ी तो उन्हें जानती है। लेकिन पीढ़ी दर पीढ़ी यह जानकारी धुंधली होती जाएगी। तब, अगली कितनी पीढ़ियाँ उन्हें और उनके कामों को याद रख पाएँगी? इस विचार ने ही मनहर भाई के मन में ‘ओजस्वी आजाद’ का अंकुरण किया। उन्होंने बीरेन कोठारी से सम्पर्क किया। यह संयोग ही रहा कि कोठारीजी की ननिहाल उसी सांढासाल गाँव में थी जो रसिक भाई की मुख्य कार्यस्थली था। मनहर भाई ने अपने पास की सारी सामग्री और सूचनाएँ उन्हें सौंपी। कोठारीजी ने सामग्री का अध्ययन किया, रसिक भाई से जुड़े अधिकाधिक लोगों से भेंट की, उनकी कार्यस्थलियों की यात्रा की। पुस्तक का गुजराती (मूल) संस्करण फरवरी 2014 में प्रकाशित हुआ। हिन्दी के पाठकों को भी रसिक भाई के जीवन से प्रेरणा मिले, इस भावना से उन्होंने बंसीधरजी से इसका हिन्दी अनुवाद कराया।

इस पुस्तक ने मनहर भाई ने एक और महत्वपूर्ण जानकारी दी। कारगिल युद्ध के दौरान 1999 में बड़ौदा के दस गैर सरकारी संगठनों ने मिलकर ‘जन जागृति अभियान’ संगठन गठित कर, ‘याद करो कुर्बानी’ शीर्षक से, अंचल के 68 स्वतन्त्रता संग्राम सेनानियों से जुड़ी सन्दर्भ सामग्री संकलित कर पूरे गुजरात में प्रचारित-प्रसारित करने की योजना बनाई। मीरा बहन भट्ट रचित यह पुस्तक 2013 तक चार जिलों की शालाओं, महाशालाओं, पुस्तकालयों में निःशुल्क पहुँचाई जा चुकी थी। यह क्रम निरन्तर है। बंसीधरजी ने बताया कि ऐसे उपक्रम गुजरात के अन्य अंचलों में कभी व्यक्तिगत स्तर पर तो कभी सांगठनिक स्तर पर होते रहते हैं।

संसद में हमारे राजनेताओं की बातें और शिकायतें सुन कर मुझे ऐसी किताबों की आवश्यकता और प्रासंगिकता तेजी से अनुभव होने लगी। लड़ती तो बेशक पूरी फौज है लेकिन नाम तो सेनापति का ही होता है। इसके अतिरिक्त उन्हीं सैनिकों का उल्लेख हो पाता है जो महत्वपूर्ण घटनाओं या कि परिणामों को प्रभावित करते हैं। लड़नेवाले तमाम सैनिकों की बात तो कोसों दूर रही, मरनेवाले तमाम सैनिकों के नाम भी उल्लेखित कर पाना दुनिया के किसी भी इतिहासकार के लिए सम्भव न तो हो पाया है न ही कभी हो पाएगा। राष्ट्रीय स्तर पर कुछ नाम सामने आएँगे। प्रान्तीय स्तर पर तनिक अधिक नाम साने आ जाएँगे। लेकिन जिला, तहसील, नगर, कस्बा, गाँव स्तर पर अनेक सामने आ जाएँगे। ये सारे नाम प्रायः ही गुमनाम ही रहते हैं। यदा-कदा स्थानीय समारोहों या गोष्ठियों में सामने आ जाएँगे। तमाम लोगों या सूचीबद्ध करने की जिम्मेदारी निभाने में कोई भी सरकार कभी भी सफल नहीं हो सकती। ऐसे में अपने शहीदों, इतिहास पुरुषों की सार-सम्हाल की जिम्मेदारी हमें, स्थानीय स्तर पर ही लेनी पड़ेगी जिस तरह कि ‘जन जागृति अभियान’ और मनहर भाई ने किया। 

अपने व्यक्तिगत और पारिवारिक मामलों के अलावा बाकी तमाम सामाजिक, सार्वजनिक कामों के लिए हम सरकारों पर आश्रित होते जा रहे हैं। ऐसे में स्थिति ‘महापुरुष हमारे, देखभाल तुम करो’ तक आ पहुँची है। अपने इस व्यवहार पर हमें गम्भीरता से, विस्तृतरूप से पुनर्विचार करना चाहिए। विभिन्न धार्मिक यात्राओं, भण्डारों, आयोजनों पर हम आए दिनों लाखों रुपये खर्च करते रहते हैं। जाहिर है, ऐसे कामों पर खर्च करने के लिए हमारी जेब और दिल बहुत बड़े हैं। अपने अंचल के महापुरुषों, शहीदों, कलाकारों, साहित्यकारों की याद के अभिलेखीकरण (डाक्यूमेण्टेशन) पर बहुत ही कम खर्च आएगा। हम सरकारों को कोसने  के बजाय इन कामों में अपनी भूमिका तय नहीं कर सकते? धार्मिक उपक्रम अखबारों की एक दिन की सुर्खी और लोगों के मन में कुछ दिनों की याद बन कर रह जाएँगे लेकिन यह अभिलेखीकरण हमारे नायकों को ही नहीं हमें भी इतिहास में दर्ज कर देगा। 

फूलों के साथ धागा भी देवताओं के कण्ठ तक पहुँच जाता है। हमारे अपने अंचल के अनगिनत फूल हमारे आसपास बिखरे पड़े हैं। इन्हें  सहेज कर, इनके साथ हम खुद भी समय-देवता के कण्ठ तक नहीं पहुँचना चाहेंगे?
-----  

(दैनिक ‘सुबह सवेरे’, भोपाल में, 17 अगस्त 2017 को प्रकाशित)


2 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (18-08-2017) को "सुख के सूरज से सजी धरा" (चर्चा अंक 2700) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    स्वतन्त्रता दिवस और श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी मुझे सुधारेगी और समृद्ध करेगी. अग्रिम धन्यवाद एवं आभार.